Skip to content

मुख्यमंत्री पेंशन योजना

 

मुख्यमंत्री पेंशन योजना

मुख्यमंत्री पेंशन योजना

          छत्तीसगढ़ वृद्ध पेंशन योजना खुशहाली का एक सोपान

 

                                      मुख्यमंत्री पेंशन योजना वरिष्ठ नागरिकों के प्रति समाज में सम्मानजनक वातावरण, जीवन एवं सम्पति का संरक्षण, चिकित्सीय देखभाल, आश्रय प्रदान करने एवं विधिक सुरक्षा हेतु माता पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण तथा कल्याण अधिनियम, 2007 प्रभावशील है।

वरिष्ठ नागरिकों एवं निराश्रित नागरिकों के हितों और आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए सरकार ने वृद्ध पेंशन योजना का आरंभ किया है।

इस योजना के अंतर्गत राज्य के बुज़ुर्गों को हर महीने सरकार द्वारा पेंशन दी जाएगी ताकि उनके सम्मान की रक्षा हो सके और वे आत्मनिर्भर और मजबूत बन सकें। इस योजना का लाभ बुजुर्ग महिला एवं बुज़ुर्ग पुरुष दोनों उठा सकेंगे।

पेंशन के माध्यम से बुज़ुर्गों को आर्थिक सहायता प्रदान किया जाना ही लक्ष्य है ।  योजना के अंतर्गत 60 से 79 वर्ष की आयु के बुजुर्गों को सरकार 350 रूपये प्रतिमाह और 80 वर्ष से अधिक आयु के लाभार्थियों को 650 रूपये प्रतिमाह पेंशन जारी करवाती है। 

https://www.cgyojna.in/

सामाजिक सहायता कार्यक्रम अंतर्गत संचालित पेंशन योजनाओं के हितग्राहियों का शत प्रतिशत डिजिटाइजेशन किया जाकर 95% हितग्राहियों की पेंशन राशि का भुगतान प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के माध्यम से किया जा रहा है। 

इससे हितग्राहियों के खाते में त्रुटि रहित त्वरित पेंशन राशि का अंतरण सुनिश्चत किया जा सका है।

इस योजना से राज्य में लगभग 20.03 लाख से अधिक हितग्राही विभिन्न पेंशन योजनाओं से लाभान्वित हो रहे है। डाटाबेस में शुद्वता हेतु हितग्राहियों की आधार रीडिंग भी की जा रही है।

 छत्तीसगढ़ पेंशन योजना  का क्रियान्वयन छत्तीसगढ़ सरकार -समाज कल्याण विभाग द्वारा किया जाता है  । कुल 7 प्रकार की पेंशन योजनाएँ Chhattisgarh Pension Yojana 2021 के अंतर्गत संचालित की जाती हैं।

पेंशन योजनाओं का लाभ केवल उन्हें नागरिकों को प्रदान किया जाता है जो छत्तीसगढ़ राज्य के स्थाई निवासी हैं।

ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों माध्यमों से इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

chhattisgarh pension scheme योजना

chhattisgarh pension scheme for senior citizens as well                                   as widows and divorcee

मुख्यमंत्री पेंशन योजना  के लिए पात्रता :

  1. छत्तीसगढ़ का मूल निवासी हो
  2. 60 वर्ष या अधिक आयु के वृद्ध महिला या वृद्ध पुरुष
  3. 18 वर्ष या उससे अधिक आयु की विधवा या विवाहोपरान्त परित्यक्त महिलायें।
  4. (अ)  ग्रामीण क्षेत्र की स्थिति में आवेदक का नाम सामाजिक-आर्थिक एवं जाति जनगणना, 2011 की सर्वेक्षण सूची के स्वतः सम्मिलित सूचकांक अथवा वंचन सूचकांक के कम से कम एक वंचन सूचकांक वाले परिवारों की सूची में हो।

स्वतः सम्मिलित सूचकांक क्या है ?

  • बेघर परिवार
  • निराश्रित / भिक्षुक
  • मैला धोने वाले
  • आदिम जनजाति समूह
  • कानूनी रूप से मुक्त किए गए बंधुआ मजदूर

4 उपरोक्त लिखित नागरिक “स्वतः सम्मिलित सूचकांक ” में सम्मिलित हो जाएंगे ।

सात वंचन सूचकांक क्या है ?

  • वह परिवार जो कच्ची छत और कच्ची दीवारों वाले एक कमरे के मकान में रहता हो
  • जिस परिवार में 16 वर्ष से 59 वर्ष की आयु का कोई सदस्य न हो
  • जिस परिवार में 16 वर्ष से 59 वर्ष की आयु का कोई सदस्य न हो लेकिन महिला मुखिया हो
  • दिव्यांग सदस्य वाला परिवार जहाँ कोई सक्षम वयस्क न हो
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति परिवार
  • ऐसा  परिवार जिसमें 25 वर्ष से अधिक उम्र का कोई साक्षर वयस्क नहीं है
  • ऐसा परिवार जिनकी आय का मुख्य स्रोत दिहाड़ी मजदूरी है

4. (ब )नगरीय क्षेत्र से संबन्धित आवेदक जिनका नाम सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना 2011 के सर्वेक्षण सूची अनुसार :

  • घास का छत /छप्पर में रहने वाले परिवार
  • प्लास्टिक/पॉलिथीन के छप्पर में रहने वाला परिवार
  • पत्थर/स्लेट की छत के नीचे रहने वाला परिवार
  • बेघर/बिना कमरे वाले घर में रहने वाला परिवार

मुख्यमंत्री पेंशन योजना में पेंशन की राशि :

पेंशन की दर प्रशासकीय आदेश द्वारा नियत की जाएगी । वर्तमान की पेंशन की दर राशि रू 350/- प्रतिमाह प्रति हितग्राही निर्धारित की गई है ,यह राशि राजी सरकार की मुख्यमंत्री पेंशन योजना मद से आहरित की जाएगी ।

रू 350 प्रति माह – 60 वर्ष से 79 वर्ष

रू 650 प्रति माह – 80 वर्ष या उससे अधिक आयु

चयन प्रक्रिया :

संबंधित नगरीय निकायों/जनपद पंचायतों को स्वीकृति/अस्वीकृति का  अधिकार है।

पात्र वृद्धों को संबंधित नगरीय निकायों/जनपद पंचायत द्वारा स्वीकृति तत्पश्चात आवेदन संबन्धित जनपद पंचायत को प्रेषित किया जाएगा।

पेंशन के लिए आवेदन कैसे करें

  • संबन्धित नगरनिगम /नगरपालिका /नगर पंचायत /पंचायत राज संस्थाओं में आवेदन पत्र निःशुल्क उपलब्ध होगा
  • ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायत से मुद्रित आवेदन फ़ॉर्म प्राप्त किए जा सकते हैं
  • फ़ॉर्म प्राप्त न हो तो निर्धारित प्रारूप में सादे कागज़ पर आवेदन दिया जा सकेगा
  • ग्रामीण क्षेत्र के आवेदक फ़ॉर्म भरकर ग्राम पंचायत में जमा करें । उसकी पावती ग्राम पंचायत देगी।
  • नगरीय क्षेत्र के आवेदक आवेदन भरकर संबन्धित नगर निगम /नगर पालिका /नगर पंचायत में  जमा करें । पावती निश्चित रूप से प्राप्त करें
  • आवेदक सीधे ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं

पात्रता के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी

आयु प्रमाणीकरण हेतु :
  • जन्म प्रमाण पत्र /मार्क शीट /पासपोर्ट /ड्राइविंग लाइसेंस

(इनमें से कोई प्रमाण उपलब्ध न हो तो ग्रामीण परिदृश्य में ‘निर्वाचक नामावली ‘ या आधार कार्ड में अंकित आयु के आधार पर सरपंच द्वारा प्रमाणीकरण एवं नगरीय क्षेत्र की दशा में नगर निगम /नगरपालिका /नगर पंचायत के प्रशासक /महापौर /अध्यक्ष द्वारा प्रमाणीकरण )

  • विधवा आवेदिका के पति का मृत्यु प्रमाण पत्र (संबन्धित नगरीय निकाय /ग्राम पंचायत या सक्षम अधिकारी द्वारा जारी )
  • परित्यक्त आवेदिका हेतु परित्यक्ता संबंधी प्रमाणीकरण ग्राम पंचायत /नगर निगम /नगर पालिका /नगर पंचायत के संबन्धित सरपंच अथवा पंच /पार्षद  द्वारा

https://www.cgyojna.in/

पेंशन भुगतान प्रक्रिया :

  • ग्रामीण क्षेत्र के लिए जनपद पंचायत एवं शहरी क्षेत्र के लिए नगरीय निकायों द्वारा पेंशन का भुगतान बैंक खाते के माध्यम से किया जाएगा । यदि बैंक खाता न हो तो पेंशन स्वीकृति के बाद आवेदक को बैंक में अपना बचत खाता तत्काल खोलना होगा । आवेदक को इसमें विभाग से पूरी मदद मिलेगी ।
  • पेंशन राशि हर माह प्रथम सप्ताह तक DBT के माध्यम से  हितग्राहियों के खाते में पहुँच जाएँगे । इसकी नोटिस राशन दुकानों में चस्पा कर दी जाएगी ।
  • ऐसे ग्राम जिनके तीन किलोमीटर की परिधि में बैंक या बैंक मित्र /लोक सेवा केंद्र की सुविधा नहीं है वहाँ कलेक्टर के अनुमोदन पश्चात नगद भुगतान किया जाएगा । नगद भुगतान की स्थिति में सरपंच ,सचिव ,पंचगण,दो गणमान्य व्यक्तियों (आँगन बाड़ी कार्यकर्ता /शिक्षक /मितानिन ) की उपस्थिति में पेंशन राशि का भुगतान होगा ।
मुख्यमंत्री पेंशन योजना

                          पेंशन सहारा देता है 

शासन का प्रयास है कि पात्र हितग्राहियों को समय पर सहायता उपलब्ध हो अतः योजना का व्यापक प्रचार प्रसार किया जाना अभीष्ट है । नागरिक जिन्हें इन योजनाओं का ज्ञान है वे अपने परिचितों या समाज के अन्य लोगों तक इसकी जानकारी पहुंचाने का प्रयास करें। 

साभार : https://sw.cg.gov.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published.